फेसबुक के निवेशक चाहते हैं मार्क जुकरबर्ग इस्तीफा दें : रिपोर्ट

फेसबुक के निवेशक चाहते हैं मार्क जुकरबर्ग इस्तीफा दें : रिपोर्ट

फेसबुक के निवेशक चेयरमैन और सीईओ मार्क जुकरबर्ग पर इस्तीफा देने का दबाव बना रहे हैं। ऐसा तब से किया जा रहा है कि जब से न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस सोशल मीडिया साइट ने एक पीआर फर्म को नियुक्त किया है। डिफायनर्स पब्लिक अफेयर्स नाम की यह पीआर फर्म रिपब्लिकन पार्टी से जुड़ी हुई है। इस फर्म के साथ गूगल और एपल के खिलाफ लेख लिखने के लिए कॉन्ट्रैक्ट किया गया है।

 

शनिवार को गार्जियन में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार ट्रिलियम एसेट मैनेजमेंट के सीनियर वाइस प्रेजिटेंट जोनस क्रोन जिनकी फेसबुक में एक बड़ी हिस्सेदारी है का कहना है कि जुकरबर्ग चेयरमैन का पद छोड़ दें।

क्रोन का कहना है कि 'फेसबुक एक कंपनी है और कंपनी को जरूरत होती है कि उसका सीईओ और चेयरमैन अलग अलग हों।' लेकिन पीआर फर्म की खबर को जुकरबर्ग एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में खारिज कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि लेख को पढ़ने के बाद मैंने फोन पर अपनी टीम के साथ बात की और हम इस फर्म के साथ काम नहीं कर रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक के एक अन्य निवेशक नताशा लैंब का कहना है कि चेयरमैन और सीईओ की संयुक्त भूमिका का मतलब है कि फेसबुक कंपनी के अंदर की समस्याओं को ठीक करने से बच सकता है। बता दें न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में कहा गया था कि फेसबुक इस फर्म के साथ अभी भी काम कर रहा है। बीते 3 सालों से जिन भी विवादों के साथ फेसबुक का नाम जुड़ा है, उनका असर कम हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक पीआर फर्म ने एपल और गूगल के खिलाफ कई लेख लिखे हैं।  

फर्म के जरिए फेसबुक इस बात के प्रचार में भी सफल रहा है कि एंटी फेसबुक मूवमेंट चलाने के पीछे निवेशक और सामाजिक कार्यकर्ता जॉर्ज सोरोस का हाथ था। रिपोर्ट में कहा गया है कि फर्म ने पत्रकारों पर यह लिखने का भी दबाव डाला कि सोरोस उन समूहों के साथ आर्थिक संपर्क में है, जो फेसबुक का विरोध करते हैं।

इसके अलावा रिपोर्ट में कहा गया है कि फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने अपने कर्मियों से कहा है कि वह आईफोन के बजाय एंड्रॉयड फोन का ही इस्तेमाल करें। इसके पीछे कारण ये है कि एपल के सीईओ टिम कुक प्राइवेसी के मामले में फेसबुक की आलोचना कर चुके हैं।