ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध से नहीं होगा असर

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध से नहीं होगा असर

दुनिया का सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब नवंबर महीने से भारत को 4 मिलियन बैरल अतिरिक्त कच्चा तेल सप्लाई करेगा। बुधवार को आई मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान के तेल निर्यात पर अमेरिका की ओर से प्रतिबंध लगाए जाने के बाद सऊदी अरब भारत के लिए अतिरिक्त आपूर्ति की कमी को पूरा करने के लिए तैयार है।

गौरतलब है कि ईरान से सबसे ज्यादा तेल चीन खरीदता है इसके बाद भारत का नंबर आता है। ईरान पेट्रोलियम निर्यात करने वाले देशों (ओपेक) के संगठन में तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक भी है। कई रिफाइनरों की ओर से संकेत दिया गया है कि प्रतिबंधों के कारण वे ईरानी तेल लेना बंद कर देंगे। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम, भारत पेट्रोलियम और मैंगलोर रिफाइनरी पेट्रोकैमिकल्स लिमिटेड कंपनियां नवंबर महीने में सऊदी अरब से अतिरिक्त 1 मिलियन बैरल खरीदेंगी।

मालूम हो कि ईरान पर बढ़ती तेल निर्भरता के चलते भारतीय तेल कंपनियां ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के लागू होने के बाद तेल के आयात में छूट मांग रही थी। देश में रिफाइनरों ने नवंबर में ईरान से 9 मिलियन बैरल खरीदने का आदेश दिया है। उल्लेखनीय है कि सोमवार को पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने संकेत दिया था कि 4 नवंबर से ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद भारत ईरान से तेल का आयात जारी रखेगा।