साइंटिस्ट बनना चाहता था ये फेमस डायरेक्टर, दोस्त की सलाह से आया लाइफ में टर्निंग पॉइंट

साइंटिस्ट बनना चाहता था ये फेमस डायरेक्टर, दोस्त की सलाह से आया लाइफ में टर्निंग पॉइंट

फिल्म डायरेक्टर और प्रोड्यूसर अनुराग कश्यप 10 सितंबर को अपना 46वां जन्मदिन मना रहे हैं. अनुराग का बचपन से साइंस की तरफ झुकाव था. वे वैज्ञानिक (साइंटिस्ट) बनना चाहते थे. लेकिन एक दोस्त की सलाह पर थिएटर से जुड़ गए, जहां से उनका सफर अंतरराष्ट्रीय मंचों तक जा पहुंचा. इस मौके पर ज़ी न्यूज़ बता रहा है अनुराग कश्यप से जुड़े दिलचस्प किस्से...

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में 10 सितंबर 1972 को जन्मे अनुराग कश्यप के पिता इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड में चीफ इंजीनियर थे. उनके ट्रांसफर के चलते बड़े बेटे अनुराग का कई शहरों में बीता. देहरादून के ग्रीन स्कूल और ग्वालियर के सिंधिया स्कूल में अनुराग की पढ़ाई हुई. इसके बाद उनको दिल्ली के हंसराज कॉलेज में जूलॉजी (जीव विज्ञान) से ग्रैजुएशन करने भेज दिया गया.

लड़कियों की वजह से पढ़ाई से भटके
अनुराग कश्यप ने एक इंटरव्यू में बताया कि कॉलेज में लड़कियों की वजह से उनका दिमाग पढ़ाई से भटक गया था. वे लड़कियों को आकर्षित करने के लिए हेयरस्टाइल संवारने लगे और रंग-बिरंगे कपड़े पहनने लग गए. यही नहीं, किसी ब्रांड के सेकंड हैंड जूते तक खरीदने के लिए पैसों की जुगाड़ तक करते थे. सिर्फ इसलिए कि लड़की हमसे बात कर ले.

इंग्लिश बोलना नहीं आती थी
फिल्म 'देव डी' के डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने बताया कि उनका अंग्रेजी में हाथ काफी तंग था. इस वजह से वे सिंधिया स्कूल में अपने क्लासमेट्स या बैचमेट्स से दूर-दूर रहते थे और काफी समय लाइब्रेरी में हिंदी किताबें पढ़ते हुए बिताते थे. यही परेशानी जब कॉलेज में आई तो उन्होंने अंग्रेजी किताबें पढ़ना शुरू कर दीं. इससे उनका मन फिर से पढ़ाई में लगने लगा.

दोस्त ने थिएटर करने की सलाह दी
इसी बीच, दिल्ली में 'जन नाट्य मंच' से जुड़े दोस्त सुनीत सिन्हा ने अनुराग को थिएटर में एक्टिंग करने की सलाह दी. इसके बाद उन्हें स्ट्रीट प्ले करने का मौका मिला. उस समय के फेमस हबीब तनवीर के ग्रुप से जुड़ने के लिए अनुराग कश्यप को भारी मशक्कत करनी पड़ी. इसके लिए उन्होंने श्रीराम सेंटर पर नाटक के टिकट तक बेचे.

1993 में चले गए दिल्ली से मुंबई
इसी साल दिल्ली में इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल हुआ. इसमें Vittorio De Sica की Bicycle Thieves फिल्म से अनुराग काफी प्रभावित हुए. इसके कुछ समय बाद अनुराग कश्यप ने मुंबई का रुख किया.  बतौर डायरेक्टर अनुराग कश्यप ने अपनी शुरुआत फिल्म 'पांच' से की थी. हालांकि, यह फिल्म आज तक बड़े पर्दे पर रिलीज नहीं हो पाई. इसके बाद 2004 में 'ब्लैड फ्राइडे' में अनुराग का काम देखने को मिला. लेकिन यह फिल्मों काफी विवादों के बाद रिलीज हो सकी.

2012 में आई फिल्म 'गैंग्स ऑफ वासेपुर' से अनुराग को पहचान मिली. लीक से हटकर चलने वाले इस बॉलीवुड फिल्म डायरेक्टर ने दर्शकों को अब तक 'गुलाल', बॉम्बे टॉकीज, 'अग्ली', 'रमन राघव 2.0' जैसी कई हिट फिल्में दी हैं.

21 सितंबर को रिलीज होगी 'मनमर्जियां'
अनुराग कश्यप की अपकमिंग फिल्म 'मनमर्जियां' जल्द ही रिलीज होने वाली है. तापसी पन्नू, विक्की कौशल और अभिषेक बच्चन की ‘मनमर्जियां’  सिनेमाघरों में 21 सितंबर को दस्तक देगी.