‘पद्मावती’ दिखाने वाले थिएटर मालिकों को सुरक्षा देगी महाराष्ट्र सरकार

‘पद्मावती’ दिखाने वाले थिएटर मालिकों को सुरक्षा देगी महाराष्ट्र सरकार

संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' पर विवाद दिन पर दिन गहराता जा रहा है. हाल ही में करणी सेना ने दीपिका और भंसाली को धमकियां दी हैं. वहीं सिंगल स्क्रीन थिएटर के मालिक इस बात से डरे हुए हैं कि कहीं यह फिल्म प्रदर्शित करने पर तोड़-फोड़ की घटनाएं न हों.

महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि जिन सिनेमाघरों में फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' प्रदर्शित की जाएगी, वहां सुरक्षा मुहैया करवाई जाएगी. गृह राज्य मंत्री रंजीत पाटिल ने कहा कि फिल्म की स्थिति को देखते हुए जिन थिएटरों में यह फिल्म प्रदर्शित की जाएगी, वहां सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी.

पाटिल ने मीडिया से कहा, 'सभी कदम उठा लिए गए हैं. किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए हम रोजमर्रा के आधार पर स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं.'

उन्होंने कहा कि हालांकि इस फिल्म का विरोध कर रहे कुछ समूह अपना पक्ष रखने के लिए सरकार के प्रतिनिधि से मिले थे और इस बारे में मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को बता दिया गया है.

महाराष्ट्र सरकार की ओर से यह फैसला संजय लीला भंसाली को कुछ दिन पहले ही पुलिस सुरक्षा मुहैया कराने के बाद लिया गया है. भंसाली को लगातार जान से मारने की धमकियां मिल रही थीं.

वहीं भारतीय जनता पार्टी के नेता और फिल्म स्टूडियो सेटिंग और मजदूर संघ के अध्यक्ष राम कदम ने इस फिल्म का जोरदार विरोध किया है.

उन्होंने कहा, 'लोगों की भावनाओं को देखते हुए, उन्होंने फिल्म का हरसंभव विरोध करने का फैसला किया है और संघ भविष्य में कभी भी भंसाली के साथ काम नहीं करेगा.'

भंसाली के अलावा फिल्म की अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को भी राजपुत करणी सेना की ओर से धमकाया गया है. करणी सेना ने 1 दिसंबर को पूरे भारत में फिल्म के विरोध में राष्ट्रव्यापी बंद का आह्वान किया है.