प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एम्स के रेजीडेंट्स डॉक्टरों ने खुला खत लिखकर जताया विरोध

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एम्स के रेजीडेंट्स डॉक्टरों ने खुला खत लिखकर जताया विरोध

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एम्स के रेजीडेंट्स डॉक्टरों ने खुला खत लिखकर विरोध जताया है. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि विदेशी जमीन पर ऐसे बयान मनोबल को तोड़ने जैसा है. अच्छे बुरे लोग हर जगह हैं. वो आपके मंत्रिमंडल तक में हैं. पर सबको एक ही तराजू पर तौलना ठीक नहीं.

प्रधानमंत्री मोदी ने लंदन में डॉक्टरों की महंगी दवाई लिखने को लेकर फार्मास्यूटिकल कंपनीज और डॉक्टरों के बीच सांठगांठ की बात कही थी, जिसके बाद से मेडिकल फ्रैटरनिटी में इसका विरोध हो रहा है. एम्स रेजिडेंट्स डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कहा कि प्रधानमंत्री का ऐसे बयान मेडिकल टूरिज्म को भी नुकसान पहुंचाने वाले हैं और इससे मरीज और डॉक्टरों के संबंधों पर भी इसका बुरा असर पड़ेगा.

साथ ही, अपने ऊपर के दबाव को लेकर डॉक्टरों ने कहा कि हमारी गुजारिश है कि प्रधानमंत्री जी एक दिन के लिए हमारी वेशभूषा पहनें और डॉक्टरों के साथ एक दिन सरकारी अस्पताल में गुजारें. यह भी कहा गया है कि ऐसा पहला वाकया है जब किसी प्रधानमंत्री ने विदेशी धरती से इस तरह का बयान दिया हो.