कोलकाता में घातक ‘निपाह’ ने दी दस्तक, पहली मौत का मामला प्रकाश में आया

कोलकाता में घातक ‘निपाह’ ने दी दस्तक, पहली मौत का मामला प्रकाश में आया

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में निपाह वायरस के संभावित संक्रमण से पहली मौत का मामला प्रकाश में आया है। अलीपुर के कमांड अस्पताल में भर्ती एक सैनिक की मौत रविवार को हुई है। सोमवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया है और बुधवार को इस बारे में सेना की ओर से आधिकारिक जानकारी दी गई है। मृत सैनिक का नाम सीनू प्रसाद है। मूल रूप से केरल के रहने वाले सीनू सेना के पूर्वी क्षेत्रीय मुख्यालय फोर्ट विलियम में पोस्टेड थे।

सैन्य सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि केरल स्थित गांव में रहने के दौरान ही उन्हें वायरल बुखार हो गया था। संभावित निपाह संक्रमण की वजह से बेहतर इलाज के लिए उन्हें कोलकाता लाकर आर्मी के कमांड अस्पताल में गत 20 अप्रैल को भर्ती कराया गया था। केरल में ही जांच के दौरान निपाह वायरस के संभावित संक्रमण की पुष्टि हुई थी। उसके बाद बेहतर इलाज के लिए उन्हें कोलकाता लाया गया था। कमांड अस्पताल में लगातार इलाज चल रहा था। कई तरह के जांच भी हुए थे। इस बीच, रविवार को सीनू ने दम तोड़ दिया। एक सैन्य अधिकारी ने बताया कि मृत सैनिक के शरीर से नमूने संग्रह किए गए हैं। इन्हें नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में जांच के लिए भेजा गया है, ताकि निपाह से मौत की पुष्टि हो सके।

वायरल बुखार से संबंधित इलाज के लिए कोलकाता के एक मात्र सरकारी बेलियाघाटा आइडी अस्पताल में अभी तक तीन लोग संभावित निपाह संक्रमण से पीड़ित होकर इलाजरत हैं। इनमें से दो कर्नाटक में काम करने गए थे, जो निपाह की चपेट में आ गए थे। इन्हें अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है। नेशनल इंस्टीट्यूट अॉफ वायरोलॉजी पुणे में है। यह देश का एक मात्र संस्थान है जहां निपाह वायरस संक्रमण की पुख्ता जांच होती है।