वृंदावन की ये अनोखी होली....

वृंदावन की ये अनोखी होली....

बेरंग जिंदगी यह प्रेम की नगरी वृंदावन में ही संभव है। ऐसी अभागिनें, जिनके लिए अपनों ने दरवाजे बंद कर दिए, उनके लिए वृंदावन के मंदिरों के पट खुल गए। यहां न केवल उन्हें आश्रय मिला बल्कि ऐसा माहौल मिला है, जो उनके जीवन को सुगम बनाने में सहायक होता है। यह सब हुआ है सुलभ इंटरनेशनल के प्रयासों से। एक दशक पहले शुरू किया गया प्रयास सार्थक सिद्ध होते दिख रहा है। देश के तमाम मंदिरों ने जहां विधवा महिलाओं के प्रवेश पर भी अघोषित पाबंदी- सी है, वहीं वृंदावन की यह विधवा महिलाएं मंदिरों में जाकर भगवान के साथ गुलाल खेलती हैं। दीपावली पर दीपक जलाती हैं और सावन पर अपने आराध्य को राखी बांधती हैं। इस बार होली का यह आयोजन वृंदावन के गोपीनाथ मंदिर में किया गया। इसके बाद हर साल की तरह चुनी गईं पांच विधवाओं को लेकर संस्था प्रधानमंत्री के पास पहुंची और उनके लिए गुलाल और मिठाई भेंट की। मंगलवार को गोपीनाथ मंदिर में करीब 1500 विधवाओं ने होली खेली। बनारस से भी विधवाएं यहां होली खेलने पहुंचीं।