हमें ये डर नहीं कि हमारी कोई फाइल खुल जाएगी : पीएम मोदी

हमें ये डर नहीं कि हमारी कोई फाइल खुल जाएगी : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर से विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा. आंध्रप्रदेश के शहर विशाखापत्तनम में एक रैली में पीएम मोदी ने कहा, हमारे ऊपर किसी तरह का दबाव नहीं है. हमें ये डर नहीं है कि हमारी कोई फाइल खुल जाएगी. उन्‍होंने कहा, डरता वही है जिसने पाप किया हो, जिसने गलत मंशा से काम किया हो. यही डर हमारे विरोधियों को खाए जा रहा है, जिसमें बड़े-बड़े दिग्गज औऱ अपना खुद का राजवंश स्थापित करने में लगे लोग भी शामिल हैं.  उन्‍होंने कहा, हमारे ऊपर कोई बैगेज नहीं है, ये डर नहीं है कि कोई फाइल खुल जाएगी.

आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत अब असहाय नहीं रहेगा : मोदी

इससे पहले तमिलनाडु के कन्याकुमारी  में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत अब ‘असहाय’ नहीं रहेगा. उन्होंने कहा कि ‘नया भारत’ आतंकवादियों द्वारा किये गये नुकसान को सूद समेत लौटाएगा और उनके प्रभाव को कम किया गया है तथा इसपर और अंकुश लगाया जाएगा.

मोदी ने सशस्त्र बलों और आतंकवाद के खिलाफ उनकी सरकार की लड़ाई पर संदेह करने के लिए अपने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर भी निशाना साधा और कहा कि इससे पाकिस्तान को मदद मिल रही है और देश को नुकसान हो रहा है. उन्होंने विपक्षी पार्टियों से कहा कि वे अपनी राजनीति चमकाने के लिये अपने बयानों से देश को कमजोर करना बंद करें। उन्होंने कहा, ‘‘मोदी तो आएगा-जाएगा, लेकिन भारत रहेगा.’ उन्होंने किसी भी पार्टी का नाम नहीं लिया.

एक जनसभा को यहां संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की तारीफ करते हुए कहा कि हर भारतीय को उनपर गर्व है. रेल और सड़क क्षेत्र में कई सरकारी परियोजनाओं का उद्घाटन करने के बाद उन्होंने कहा, ‘‘हर भारतीय को गर्व है कि जांबाज विंग कमांडर अभिनंदन तमिलनाडु के रहने वाले हैं.’

मोदी ने कहा कि उन्हें गर्व है कि भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण भी तमिलनाडु की हैं. आतंकवाद को जवाब देने के लिये अपनी सरकार के संकल्प को दोहराते हुए मोदी ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई में हुए हमलों के बाद सर्जिकल स्ट्राइक को कथित तौर पर ‘‘बाधित’’ करने को लेकर कांग्रेस की अगुवाई वाली पिछली संप्रग सरकार पर निशाना साधा. मोदी ने कहा कि देश कई सालों से आतंकवाद से जूझ रहा है, लेकिन अब बहुत बड़ा फर्क आ चुका है....भारत आतंक के खिलाफ लड़ाई में असहाय नहीं रहेगा.

उन्होंने कहा, ‘‘यह नया भारत है. यह वो भारत है जो आतंकवादियों द्वारा पहुंचाए गए नुकसान को सूद समेत लौटाया जाएगा. आतंकवादियों और आतंकवाद के प्रभाव को कम किया गया है और इसे और कम किया जा रहा है.’ मोदी ने कहा कि पिछले दो दिन की घटनाओं ने एक बार फिर देश के सशस्त्र बलों की ताकत को प्रदर्शित किया है.

संभवत: वह भारतीय वायुसेना की ओर से किए गए हवाई हमलों को अंजाम देने और वायुसेना द्वारा एक पाकिस्तानी लड़ाकू विमान को मार गिराने की तरफ इशारा कर रहे थे. लोगों द्वारा अभिनंदन और सशस्त्र बलों को मिल रहे अपार जनसमर्थन की तरफ इशारा करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘इससे हमारा देश भी काफी करीब आया है.’

बहरहाल, उन्होंने कहा कि यह दुख की बात है कि कुछ राजनीतिक पार्टियां आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई पर संदेह कर रही हैं. उन्होंने कहा कि पूरा देश जब देश के सशस्त्र बलों का समर्थन कर रहा है, वे ‘‘सशस्त्र बलों पर संदेह कर रहे हैं.’ मोदी ने कहा, ‘‘यह वही लोग हैं जिनके बयान पाकिस्तान की मदद कर रहे हैं और भारत को नुकसान पहुंचा रहे हैं. वे वही लोग हैं जिनके बयानों का हवाला पाकिस्तान की संसद और पाकिस्तान के रेडियो में दिया जा रहा है.’

उन्होंने कहा, ‘‘उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि वे हमारे सशस्त्र बलों में यकीन करते हैं या हमारी सरजमीं पर आतंकवाद का समर्थन करने वाली ताकतों पर यकीन करते हैं?’’ मोदी ने कहा, ‘‘मैं उनसे कहना चाहता हूं - मोदी तो आएगा-जाएगा, लेकिन भारत रहेगा। अपनी राजनीति को मजबूत करने के लिए कृपया भारत को कमजोर करना बंद करें.’ उन्होंने कहा, ‘‘हम पहले भारतीय हैं और आपकी राजनीति इंतजार कर सकती है...हमारे देश की सुरक्षा दांव पर है.’ प्रधानमंत्री ने जोर देकर कहा कि पूरी दुनिया आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत का समर्थन कर रही है.

खबरों का हवाला देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि 26/11 हमलों के बाद भारतीय वायुसेना सर्जिकल स्ट्राइक करना चाहती थी, लेकिन ‘‘यूपीए ने इसमें अड़ंगा लगाया.’ मोदी ने कहा, ‘‘देश उम्मीद कर रहा था कि आतंक के इन कृत्यों के लिए जिम्मेदार लोगों को सजा मिलेगी, लेकिन कुछ नहीं किया गया। 26/11 (मुंबई आतंकी हमले) भारत में हुआ, लेकिन कुछ नहीं हुआ.’ उन्होंने कहा, ‘‘आज हम ऐसे युग में हैं जहां खबरें आती हैं कि सशस्त्र बलों को उनकी मर्जी के मुताबिक कोई भी कदम उठाने की पूरी आजादी है। आतंकवादियों और आतंकवाद के प्रभाव में कटौती हो चुकी है और इसमें अभी और कमी आएगी.’

उन्होंने 2004 और 2014 के बीच संप्रग शासनकाल के दौरान हैदराबाद, दिल्ली, मुंबई, बेंगलूर और पुणे में हुए बम धमाकों पर अफसोस जताया. उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन जब उरी (हमला) हुआ, तो आपने देखा कि सैनिकों ने क्या किया (सर्जिकल स्ट्राइक), आपने देखा कि वायुसेना के जांबाजों ने क्या किया (बालाकोट हवाई हमला). मैं उन सभी को सलाम करना चाहता हूं जो अपने देश की सेवा कर रहे हैं. उनकी चौकसी के कारण देश सुरक्षित है.’

मोदी ने कहा कि 2019 का चुनाव कमजोरी के खिलाफ ताकत देने के बारे में है। उन्होंने कहा कि भाजपा नीत राजग स्थिरता प्रदान करेगी. विपक्ष और वंशवादी राजनीति पर प्रहार करते हुए मोदी ने कहा, ‘‘मेरा एकमात्र परिवार 130 करोड़ भारतीय हैं. मैं उनके लिये जीता हूं. मैं उनके लिये ही मरूंगा.’ कांग्रेस पर हमला बोलते हुए मोदी ने कहा कि वह एक ऐसी आर्थिक संस्कृति को बढ़ावा दे रही थी, जिससे एक ‘बड़े वंश’के मित्रों और परिवार के सदस्यों को फायदा हो रहा था. मोदी ने कहा, ‘‘अगर किसी ने कांग्रेस की आर्थिक संस्कृति के बारे में बोला तो वह थे तमिलनाडु के लाल सी राजगोपालाचारी.’ उन्होंने कहा, ‘‘हम एक ऐसी अर्थव्यवस्था बनाकर राजाजी के सपने को पूरा कर रहे हैं जो सुधारोन्मुखी और जनोन्मुखी है.’