बड़ी खबरः आर्मी ने पाकिस्तान में घुसकर मारे 38 आतंकी, भड़के नवाज

बड़ी खबरः आर्मी ने पाकिस्तान में घुसकर मारे 38 आतंकी, भड़के नवाज

दिल्लीः उड़ी हमले को लेकर भारत ने बड़ा ऐक्शन लिया है। भारतीय सेना ने लाइन ऑफ कंट्रोल के नजदीक आतंकियों के ठिकानों पर सर्जिकल स्ट्राइक करके कई आतंकवादियों को ढेर किया है। भारतीय डीजीएमओ की ओर से प्रेस कॉन्फ्रेंस करके गुरुवार को यह जानकारी दी गई। वहीं, पाकिस्तान ने कहा है कि क्रॉस बॉर्डर फायरिंग में उसके दो सैनिक मारे गए हैं। डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल रणवीर सिंह ने बताया, 'कल बहुत ही विश्वस्त और पक्की जानकारी मिली कि कुछ आतंकी एलओसी के साथ लॉन्चपैंड्स पर इकट्ठे हुए हैं।

 

LoC पारकर किया सर्जिकल स्ट्राइक -

उड़ी हमले के बाद लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) पर बने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव के मद्देनजर पीएम मोदी कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्युरिटी (सीसीएस) की हैं। इसके बाद डीजीएमओ ने क्या कहा- ''मजबूत इन्फॉर्मेशन के आधार पर हमें पता लगा है कि कुछ आतंकी एलओसी पर मौजूद हैं। उनका मकसद भारत में घुसपैठ कर आतंकी हमलों को अंजाम देना है। इंडियन आर्मी ने वहां कल रात सर्जिकल स्ट्राइक किया था। हमने सुनिश्चित किया था कि ये आतंकी अपने मंसूबों में कामयाब न हों। काउंटर ऑपरेशंस में काफी नुकसान पहुंचा है। आतंकियों को नेस्तनाबूद करने का यह ऑपरेशन अभी रुका हुआ है। इसे दोबारा चलाने का अभी कोई प्लान नहीं है।'' माना जा रहा है कि एक घंटे से भी कम वक्त ने इंडियन आर्मी ने वहां 38 आतंकी मार गिराए। इस खुलासे के बाद सकते में आए पाक के पीएम नवाज शरीफ ने कहा कि भारत इसे हमारी कमजोरी न समझे।

 

क्या है इंटरनेशनल बॉर्डर और एलओसी -

पाकिस्तान से सटा इंटरनेशनल बॉर्डर 2313 किलोमीटर लंबा है। वहीं, जम्मू-कश्मीर में एलओसी 772 किलामीटर लंबी है। इंटरनेशनल बॉर्डर को बीएसएफ गार्ड करती है, जबकि एलओसी की हिफाजत आर्मी करती है। पाकिस्तान इंटरनेशनल बॉर्डर पर बीएसएफ की चौकियों को ज्यादा निशाना बनाता है।

कब हुआ था सीजफायर एग्रीमेंट -

भारत-पाकिस्तान के बीच सीजफायर एग्रीमेंट नवंबर 2003 में हुआ था। दोनों देशों के बीच यह तय हुआ था कि बॉर्डर और एलओसी पर फायरिंग नहीं होगी। लेकिन पाकिस्तान ने हर साल कई-कई बार सीजफायर तोड़ा है। इससे पहले 1949 में कराची एग्रीमेंट के बाद सीजफायर लागू हुआ था। बाद में, वाजपेयी सरकार के वक्त 2003 में दोबारा सीजफायर लागू हुआ।