एशियन गेम्स में खुला भारत का खाता,  शूटिंग में कांस्य

एशियन गेम्स में खुला भारत का खाता,  शूटिंग में कांस्य

एशियन गेम्स में भारत का खाता खुल गया है. इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में चल रहे खेलों में रविवार को भारत के शूटर अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार ने निशाेबाजी की 10 मी. एयर राइयफल की मिक्स्ड स्पर्धा में कांस्य पदक जीतकर महाकुंभ में भारत का खाता खोल दिया है. इन दोनों की जोड़ी ने 429.9 का स्कोर किया. इससे पहले अपूर्वी चंदेला और रवि कुमार की जोड़ी ने सुबह फाइनल में जगह बनाई थी, लेकिन 10 मी. एयर पिस्टल में टीम वर्ग में मनु भाकर और अभिषेक वर्मा फाइनल के लिए क्वालीफाई करने से चूक गए.

इससे पहले तैराकी में पुरुषों में श्रीहरि नटराज ने 100 मी. बैकस्ट्रोक, तो सज्जन प्रकाश से दो 200 मी. बटरफ्लाई वर्ग के फाइनल में जगह बना ली है वहीं, भारतीय महिलाओं ने कबड्डी में अपने अभियान की शुरुआत करते हुए जापान को एकतरफा मुकाबले में 43-12 से हरा दिया है. बास्केटबॉल में भारतीय महिला टीम को अपने दूसरे मुकाबलें में भी हार झेलनी पड़ी है. वहीं, महाकुंभ का पहला गोल्ड चीन के खाते में गया है. सुन पेइयुआन ने पुरुष चांगकुआन वर्ग का स्वर्ण पदक 9 .75 अंक के साथ जीता.

आपको बता दें कि इस बार एशियन गेम्स में भारत के 572 खिलाड़ी कुल 36 खेलों में अपना भाग्य आजमाने जा रहे हैं. इन खिलाड़ियों में 312 पुरुष और 260 महिला खिलाड़ी हैं. इसके अलावा भारतीय दल में कोच, स्पोर्ट स्टॉफ और अधिकारियों को मिलाकर 232 लोग हैं. राष्ट्रकुल खेलों में पदकों की झड़ी लगाने के बाद भारतीय दल के सामने बड़ी चुनौती है. साल 1962 में भारत ने जकार्ता में 52 पदक जीते थे. इसमें 12 स्वर्ण, 13 रजत और 27 कांस्य पदक थे. इस संस्करण में भारत तीसरे स्थान पर रहा था. वहीं अगर पिछले तीन संस्करणों की बात की जाए तो भारत तीनों बार 50 से ज्यादा पदक लेकर आया है