गूगल पर भारतीय भाषाओं में होगी प्रचुर सामग्री

गूगल पर भारतीय भाषाओं में होगी प्रचुर सामग्री

अमेरिकी प्रौद्योगिकी कंपनी गूगल ने मंगलावर को भारतीय भाषाओं में अपने खजाने का विस्तार करने के लिए नवलेखा परियाजना का ऐलान किया, जिसमें देश की राष्ट्रभाषा हिंदी समेत प्रादेशिक भाषाओं में ज्ञान-कोश व सूचना सामग्री का प्रसार करने पर जोर दिया जाएगा. इसके अलावा, गूगल असिस्टेंट नई भाषाओं को शामिल कर उसे उन्नत बनाने और गूगल तेज का नाम बदलकर गूगल तेज करने की घोषणा की गई. 

 

प्रौद्योगिकी कंपनी की ओर से कार्यक्रम के दौरान कहा गया कि भारतीय भाषाओं में गूगल पर बहुत कम सामग्री है, लेकिन इन भाषाओं में प्रकाशित सामग्री की विपुलता है. इसलिए गूगल ने नवलेखा परियोजना शुरू की है जिसके माध्यम से प्रकाशित सामग्री को शामिल कर गूगल के खजाने में विस्तार किया जाएगा.

 

 

कार्यक्रम में परियोजना की जानकारी देते हुए 'इंजीनियरिंग गूगल सर्च' के वाइस प्रेसीडेंट शशिधर ठाकुर ने बताया कि महज चंद मिनट में किसी आलेख को किस प्रकार वेब पेज पर अपलोड किया जा सकता है. इसके लिए गूगल ने वेबपेज बनाने की काफी सरल प्रक्रिया तैयार की है ताकि प्रकाशक अपनी सामग्री को आसानी से ऑनलाइन कर सके.

 

प्रौद्योगिकी कंपनी ने अपने चौथे वार्षिक सम्मेलन गूगल फॉर इंडिया में कहा कि इंटरनेट यूजर वॉइस यानी आवाज सुनना ज्यादा पसंद करते हैं और कुल मोबाइल में से करीब 75 फीसदी मोबाइल पर ऑनलाइन वीडियो उपलब्ध है.

 

कंपनी ने अपने एप गूगल मैप और गूगल असिस्टेंट को अपडेट करने के साथ-साथ गूगल गो और गूगल फीड जैसे एप के माध्यम से भारत के इंटरनेट यूजर को बेहतर सुविधा प्रदान करने का ऐलान किया. गूगल भारत की प्रादेशिक भाषाओं में भी गूगल फीड लाने जा रहा है.