FACEBOOK पर अब आप डिलीट कर सकेंगे अपनी हिस्ट्री

FACEBOOK पर अब आप डिलीट कर सकेंगे अपनी हिस्ट्री

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म Facebook एक नया प्राइवेसी फीचर ला रहा है. फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने कंपनी की सालाना डिवेलपर कॉन्फ्रेंस F8 में इसकी घोषणा की है. इस नए प्राइवेसी फीचर का नाम क्लीयर हिस्ट्री (Clear History) होगा. यह नया प्राइवेसी फीचर यूजर को फेसबुक द्वारा इकट्ठा किए गए डेटा को डिलीट करने की सहूलियत देगा. फेसबुक यह डेटा उसके ऐड और एनालिटिक्स टूल्स का इस्तेमाल करने वाली साइट्स और ऐप्स से जुटाता है. इसका मतलब है कि आप फेसबुक के डेटा स्टोर से अपनी ब्राउजिंग हिस्ट्री डिलीट कर सकेंगे.

यूजर के प्राइवेसी कंट्रोल को बेहतर बनाने का दबाव
जकरबर्ग ने एक Facebook पोस्ट में लिखा फेसबुक के यूजर पहली बार अपने अकाउंट्स से डेटा क्लीयर कर पाएंगे. क्लीयर हिस्ट्री नाम वाला नया फीचर किसी वेब ब्राउजर के ऑप्शन जैसा होगा, जिसमें यूजर कैशेश से अपनी हिस्ट्री और कुकीज डिलीट कर पाते हैं. जकरबर्ग ने लिखा है, 'हम जैसे ही इस अपडेट को लाएंगे, आप उन ऐप्स और वेबसाइट्स के बारे में जान पाएंगे, जिनमें आपने विजिट की है. और आप अपने अकाउंट से इस इंफॉर्मेशन को डिलीट कर पाएंगे.' कैंब्रिज एनालिटिका का मामला सामने आने के बाद से फेसबुक लगातार दबाव में है. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने यूजर्स के लिए प्राइवेसी कंट्रोल को बेहतर बनाने का दबाव है.

ब्राउजिंग हिस्ट्री को कर पाएंगे क्लीयर

जकरबर्ग ने कहा है कि जो यूजर अपने फेसबुक प्रोफाइल से डेटा क्लीयर करने का ऑप्शन चुनेंगे, उन्हें ऐसा करने में स्मूथ एक्सपीरियंस होगा. फेसबुक में Clear History का फीचर आने के बाद आप कुकीज को क्लीयर करने के साथ ब्राउजिंग हिस्ट्री को डिलीट कर सकेंगे. आमतौर पर फेसबुक एनालिटिक्स आपकी ब्राउजिंग हिस्ट्री और लाइक्स के डेटा को कलेक्ट करता है और इस जानकारी का इस्तेमाल सुझाव देने और आपकी फीड में ऐड देने के लिए करता है. हालांकि, जकरबर्ग ने F8 में इस बात पर जोर दिया कि फेसबुक को सही तरीके से काम करने के लिए आपकी दिलचस्पी को जानना बेहद जरूरी है.