ईरान के विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ इस्तीफा देने के बाद माफी भी मांगी

ईरान के विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ इस्तीफा देने के बाद माफी भी मांगी

2015 में हुए परमाणु समझौते में ईरान के मुख्य वार्ताकार रहे विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ ने इस्तीफा दे दिया है। इस्तीफा देते हुए जरीफ ने परमाणु समझौता टूटने की कगार पर पहुंचने के लिए माफी भी मांगी।

अमेरिकी के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के शासन में हुए इस समझौते में अमेरिका के साथ ब्रिटेन, रूस, फ्रांस, चीन और जर्मनी भी शामिल थे। अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल अमेरिका को इससे अलग कर लिया था।

 जरीफ ने मंगलवार को सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट में इस्तीफा देने की जानकारी दी। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि वह इस वक्त क्यों इस्तीफा दे रहे हैं और इसका परमाणु समझौते पर क्या असर पड़ेगा?

जरीफ के इस्तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा, 'हम देखेंगे कि उनका इस्तीफा मंजूर होता है या नहीं। हमारी नीति अब भी बरकरार है। ईरान सरकार को सामान्य देशों की तरह बर्ताव करना चाहिए।' राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि यदि राष्ट्रपति हसन रूहानी जरीफ का इस्तीफा स्वीकार कर लेते हैं तो इससे उनके शासन को भी झटका लगेगा।